उपाधि और उनके रोजगार की स्थिति

सूत्रकृमि में स्नातकोत्तर उपाधि देने वाला दुनिया का पहला संस्थान । वर्ष 2018 तक 113 स्नातकोत्तर. और 144 पीएच. डी. छात्रों ने उपाधि हासिल की है। यह छात्र आईसीएआर, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों (एसएयू), भारत और विदेश के सरकारी विभागों में वैज्ञानिक, सहायक प्रोफेसर और प्रशासक आदि के रूप में कार्य कर रहे है।

f8 

व्यावसायिक सोसायटी ऑफ नेमाटोलॉजी

1969 में नेमाटोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया की स्थापना की, इस सोसाइटी का मुख्यालय सूत्रकृमि विज्ञान प्रभाग मे है। यहा से बर्ष 1971 से इंडियन जर्नल ऑफ नेमाटोलॉजी का प्रकाशन शुरू किया गया।

सूत्रकृमि वर्गीकरण एवम जैव-व्यवस्थाः

  • भारत में पाए जाने वाले मृदा, कीट व पादप सूत्रकृमियों की अधिकतम वंशों, प्रजातियों की पहचान व प्रस्तुतीकरण ।
  • सब्जियों, अनाज, दलहन व तिलहन फसलचक्र में उभरते सूत्रकृमि समस्या पर प्रकाशन
  • निकटतम सूत्रकृमि प्रजातियों में विभेदीकरण हेतु जैवरसायनिक व आणविक तकनीकियों का उपयोग जैसे:- मैलैडोगाइन एंव हैटेरोडेरा ( मैलैडोगाइन इनकोगनिटा, मै. जेवैनिका, मै. हैप्ला)।
  • पोषी भिन्नता व डी एन ए वहुरूपता की सहायता से जडगाँठ, गुर्दाकार एवम पुटटी सूत्रकृमियों में संततियों (races) का विभेदीकरण ।

f8

 

  • वहुत से पादप व कीटनाशक सूत्रकृमियों के जीन की पहचान तथा इनके अनुक्रमों को जीनबैंक में जमा किया गया।
  • सूत्रकृमि टैक्सा हेतु नवीन वर्गीकरण योजना प्रस्थापित व निदानकारी कुजी का निर्माण ।
  • महत्वपूर्ण टाइलैंकिड व लोंगिडोरिड सूत्रकृमियों की मोरफोमेट्रिक्स अध्ययन ।

नेशनल निमेटोड कलैक्सन आफ इण्डिया (एन.एन.सी.आई.) की स्थापना, नेशनल निमेटोड कलैक्सन आफ इण्डिया के एक्सेसन्स की जानकारी डेटाबेस के रूप में भी उपलब्ध है।

जिसमें 584 प्रजातियों, 201 वंशों के 2395 टाइप एसेसन्स, 225 प्रजातियों की पहचान की हुई स्लाइडस, 3302 गीले निलंबन आदि जमा हैं।

कुल स्लाइडस

उपजाति

कुल संग्रह

पहचान की हुई स्लाइडस

2595

611

3302

2285

 

f8

 

पहचान किये गये प्रमुख सूत्रकृमि:

  • जड-गांठ सूत्रकृमि (मैलैडोगाइन इनकोगनिटा, मै. जेवैनिका) गुर्दाकार सूत्रकृमि (रोटाइलैंकुलस रेनिफोरमिस) सब्जियों को, पुटटी सूत्रकृमि (हैटेरोडेरा कैजेनी) दलहनों को व जड-गांठ सूत्रकृमि (मैलैडोगाइन इनकोगनिटा, मै. आरनेरिया) तिलहन फसलों को हानि पहॅंचाने वाले प्रमुख सूत्रकृमि ।

 

f8

 

  • अग्रणि तोर के कार्य में गुर्दा सूत्रकृमि, जड गांठ सूत्रकृमि, और अनाज के पुट्टी सूत्रकृमियों की प्रजातियों केा पहचान ।
  • देश के उत्तर पश्चिमी राज्यों में हैटेरोडेरा एवैनी, हैटेरोडेरा जी व हैटेरोडेरा सोरघी आदि का गेहू, मक्का, बाजरा को प्रमुख हानि कारक पुटटी सूत्रकृमियों के रूप में पहचान ।
  • अनाजों व सब्जियों मे धान-गेंहॅं फसल चक्र के अन्र्तगत महत्वपूर्ण सूत्रकृमि, मैलैडोगाइन ग्रेमिनिकोला, की गंभीर समस्या ।
  • अमरूद और आलू में जड गांठ सूत्रकृमि (मेलोइडोगाइन इन्गोगिटा, एम. जवनिका और एम. एरेनेरिया) की समस्या को लाभदायक खेती की सीमाओं के रूप में पहचाना गया है।

 

f8

f8

आणविक सूत्रकृमि विज्ञान:

एम. ग्रामिनिकोला और एच. एवेयाननी के पूरे जीनोम अनुक्रमण के माध्यम से जीन के संदर्भ में पर्याप्त ज्ञान संसाधन उत्पन्न करके भविष्य में उपयोग के लिए आणविक नेमाटोलॉजी स्कूल की स्थापना; एम. ग्रामिनिकोला, एच. एवेयाननी, एच. कजनी, एम. इंडिका (संक्रमित नीम), एम. जावानिका और हैटरोरहइबडाइटिस इंडिका, ईपीएन और इसके जीवाणु सिमवायोंट, फोटोरैबडस ल्यूमिनिस्केंस के ट्रांसक्रिप्टोम।

  • आर एन ए आइ तकनीक द्वारा मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के प्रति सूत्रकृमि प्रतिरोधी टांसजैनिक बैगन एवं टमाटर के विकास की विभिन्न अवस्थाएं का मूल्यांकन ।

f8

 

  • कीटनाशक सूत्रकृमि (ईपीएन), हैटरोरहइबडाइटिस इंडिका के IJ के ट्रांसक्रिप्टोम का उपयोग कीट बायोपेस्टीसाइड के निर्माण के लिए किया जाता है। यह जानकारी उपभेदों की आनुवंशिक वृद्धि और शैल्फ-जीवन में सुधार के लिए उपयोगी है।
  • मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के तंत्रिका विज्ञान का अध्ययन किया और पहली बार विश्व स्तर पर कई केमोसेंसरी जीनों की पहचान की, क्लोन किया और विभिन्न होस्ट मे संकेत पारगमन में उनकी भूमिका को मान्य किया।
  • महत्वपूर्ण न्यूरोपैप्टाइड जीन की अभिव्यक्ति का प्रदर्शन, मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के तंत्रिका तंत्र के रेट्रो-वेसिकुलर गैन्ग्लिन और न्यूट्रॉन में AWR, एवीए, एम 2, सब-वेंट्रल के एम 3 की तरह एफआरआरफैमाइड पेप्टाइड 18 (एफएल 18)। चूंकि यह जीन होस्ट मान्यता, घ्राण, रसायन, वसा चयापचय और प्रजनन जैसे आवश्यक कार्यों के लिए जिम्मेदार है, इसलिए यह ट्रांसजेनिक या एंटी-नैमैटिसइडल अणुओं को डिजाइन करने के लिए एक बहुत ही आशावान हो सकता है।
  • मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के विकास और प्रजनन को कम करने में एक साथ कई जीनों के आरएनएआई साईलेन्सिग की प्रभावशीलता का प्रदर्शन।
  • बैंगन पर मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के प्रवेश के दौरान परजीविता के प्रभाव का क्रॉस-टॉक प्रदर्शन किया।
  • मृदा में जनसंख्या के निर्माण में कमी लाने के लिए प्रारंभिक खोजपूर्ण अवस्था और बाद की स्थापना दोनों को संरक्षण प्रदान करने में मैलैडोगाइन इनकोगनिटा जीन के आरएनएआई के होस्ट के दोहरे लाभ का प्रदर्शन किया।
  • पहली बार पहचाने गए, क्लोन किए गए और मान्य किए गए आठ हाउसकीपिंग जीनों को ट्यूबरोज में 11 अलग-अलग ऊतकों में जीन अभिव्यक्ति के अध्ययन के लिए आवश्यक है और दोनों बायोटिक और अजैविक स्थितियों के तहत उनकी स्थिरता का प्रदर्शन किया। यह तनाव और अन्य विभिन्न स्थितियों के कारण जीन अभिव्यक्ति में परिवर्तन की मात्रा निर्धारित करने की सुविधा प्रदान करेगा।
  • तम्बाकू और बैंगन में मैलैडोगाइन इनकोगनिटा के जीनों की आरएनएआई को होस्ट मे वितरित किया: सूत्रकृमि की न्यूरोमोटर गतिविधि को बाधित करने के लिए दो एफएमआरफैमाइड जैसे कि न्यूरोपेप्टाइड जीन, flp14 और flp18, और संक्रमण के लिए जिम्मेदार तीन एसोफैगल ग्रंथि जीन, msp1, msp18 और msp20। और प्रभावी सूत्रकृमि प्रबंधन के लिए रोग और जीवन चक्र को बाधित करने के लिए आरएनएआई के माध्यम से होस्ट जड़ों के रखरखाव को जीन साईलेन्सिग के लिए लक्षित किया गया था। जीन के प्रत्येक के लिए 15-30 घटनाओं वाले लगभग 100 ट्रांसजेनिक घटनाओं को उत्पन्न किया गया है और दक्षिणी धब्बा विश्लेषण द्वारा जीन एकीकरण के लिए पुष्टि की गई है, उत्तरी धब्बा विश्लेषण द्वारा siRNA पीढ़ी की अभिव्यक्ति विश्लेषण, मात्रात्मक पीसीआर द्वारा ट्रांसजीन अभिव्यक्ति और डाउन रेगुलेशन का प्रदर्शन। ट्रांसजेनिक पौधों को हानि पुहचाने वाले सूत्रकृमि में लक्ष्य जीन साईलेन्सिग की पुष्टि की, विशिष्ट जीन साईलेन्सिग की पुष्टि की, जो जीन साईलेन्सिग के फेनेटोटाइपिक प्रभाव जैसे कि सूत्रकृमि प्रेरित जड़ गाठ में कमी, मादा सूत्रकृमि की संख्या, प्रजनन और गुणन कारक के लिए जिम्मेदार है। Flp18, flp14 और msp1 को व्यक्त करने वाले बैंगन ट्रांसजेनिकों को T3 पीढ़ी में भी उल्लेखनीय रूप से प्रदर्शन अकित किया गया है, अत: स्थानांतरण के लिए तैयार है।
  • व्यापक जानकारी प्रदान करने के लिए एच. एवेयाननी ट्रांसक्रिपटोम डाटाबेस (HATDB) विकसित किया गया। HATDB स्वतंत्र रूप से उपलब्ध संसाधन है, जो उपयोगकर्ता शोधकर्ताओं को एच. एवेयाननी और अन्य परजीवी सूत्रकृमि (http://insilico.iari.res.in पर उपलब्ध) पर अनुसंधान की सहायता के लिए डेटा खोजने, ब्राउज़ करने और क्वेरी करने के लिए एक पोर्टल प्रदान करता है। । लगभग 27,000 टेपों के साथ विधानसभा का वर्तमान संस्करण वैश्विक पहुंच के लिए अपलोड किया गया है। हमने BLAST विश्लेषण के लिए लिपियों के प्रोटीन अनुवाद को भी शामिल किया है। इसके अलावा, डेटाबेस पहचानकर्ता, जीन ऑन्कोलॉजी (कार्यात्मक जानकारी) और pfam (प्रोटीन परिवार) डोमेन के आधार पर अनुक्रम निकालने के लिए अनुक्रम पुनर्प्राप्ति प्रणाली प्रदान की जाती है।
  • एच. एवेयाननी के संक्रमण, विकास और प्रजनन में उनकी भूमिका निर्धारित करने के लिए इन विट्रो आरएनएआई साइलेंसिंग द्वारा 45 जीनों का मूल्यांकन किया गया।
  • एम. ग्रामिनिकोला में कई सामान्य जीनों की पहचान करके आरएनएआई द्वारा मान्य किया गया।
  • पहली बार मैलैडोगाइन इनकोगनिटा में कई nlp जीनों का क्लोन बनाया और RNAi द्वारा संक्रमण, विकास और प्रजनन में इनकी भूमिका का प्रदर्शन किया।
  • चावल में प्रतिरोध की पहचान करने के लिए इन विट्रो स्क्रीनिंग में एक बहुत ही कठोर विकसित किया और जल्दी और स्थापित संक्रमण चरणों में प्रतिरोधी और अतिसंवेदनशील खेती के बीच उनकी तुलना के लिए एसए, जेए और ईए रास्ते के कई जीनों की अभिव्यक्ति को निर्धारित किया।
  • मैलैडोगाइन इनकोगनिटा प्रबंधन के लिए flp14 की उपयोगिता के लिए एक भारतीय और एक US-PCT पेटेंट दायर किया।
  • कई पादप परजीवी सूत्रकृमि और कीटनाशक सूत्रकृमि के डीएनए फिंगर प्रिंट विकसित किए गए हैं।

सूत्रकृमि प्रबन्धन

  • सब्जियों व दलहनों में जड-गांठ सूत्रकृमि, गुर्दाकार सूत्रकृमि व अरहर के पुटटी सूत्रकृमि के विरूद्ध नीम व अन्य वनस्पतिक भागों व उत्पादों की सूत्रकृमिनाशक क्षमता को स्थापित किया।
  • अनाजों, सब्जियों, फूलों, दलहनों व तिलहन फसलों को हानि पुहचाने वाले जड-गांठ, गुर्दाकार व पुटटी सूत्रकृमियों के लिए नीम उत्पादों व सूत्रकृमिनाशकों द्वारा बीज उपचार हेतु प्रोटोकाल को विकसित करना।
  • सब्जियों, दलहनों तिलहन फसलों में जड-गांठ, गुर्दाकार सूत्रकृमि व अनाजों में पुटटी सूत्रकृमि के प्रति कई प्रतिरोधक श्रोतों की पहचान व इनमें से कुछ का प्रतिरोधी प्रजनन किस्मों के रूप में उपयोग।
  • फसल चक्र व कृषि जलवायु से संबन्धित आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण सूत्रकृमि उपजातियों का अध्ययन, इनकी क्षति सीमा का निर्धारण तथा कई फसलों के लिए फसल क्षति, सूत्रकृमि संख्या, गतिशीलता माडल का निर्माण और कुछ फसलें जैसे सनई, सरसों जड-गांठ सूत्रकृमि के विरूध फसल प्रणाली मे उपयोग।
  • धान व गेहूं में मै. ग्रेमिनिकोला के लिए कारगर जैविकी, संख्या गतिशीलता एवम समेकित प्रबन्धन पैकेज का विकास ।
  • टमाटर, बैगन, मिर्ची व धान आदि प्रतिरोपित फसलों के नर्सरी की क्यारियों में सूत्रकृमि नियंत्रण हेतु प्रभावशाली मृदा सौरीकरण तकनीक का उपयोग।
  • गेहूं के यअर कोकल/सीड गाल सूत्रकृमि, एन्ग्युना ट्रिटिसाइ के प्रति प्रबन्धन पैकेज को विकसित करना।
  • पास्चूरिया जीवाणू अरहर के पुटटी सूत्रकृमि से निकालकर उटी क्षेत्र् के आलू कि फसल में डाला, परिणाम स्वरूप आलू के पूट्टी सूत्रकृमि अपना जीवन चक्र भलि भॅाति पूरा कर सकता है।
  • पारम्परिक व रसायनिक नियंत्रण संयोजनों युक्त समेकित सूत्रकृमि प्रबन्धन पैकेज का निर्माण तथा इनकी प्रभावशालीता का अनाज, सब्जियों, दलहनों व तिलहन फसलों पर वहु-स्थानों में परीक्षण द्वारा प्रदर्शन।
  • संरक्षित खेती में टमाटर की फसल को अधिक हानि पहुचाने वाला जडगांठ सूत्रकृमि के प्रबन्धन में मिथाम सोडिय द्वारा मिट्टी को उपचारित करना अधिक आशावान हैं।
  • सूत्रकृमियों द्वारा फसलों को होने वाली बीमारियों की पहचान व प्रबन्धन हेतु किसानों की सहायता के लिये नैदानिक एवम सलाहकार क्लिनिक की स्थापना।

सूत्रकृमियों का जैविक नियंत्रण

  • मैलैडोगाइन इनकोगनिटा व हैटेरोडेरा कैजेनी सूत्रकृमि के प्रति पासचूरिया पैनीट्रैन्स की स्वदेशी विशिष्ट आइसोलेटस की जैवनाशक क्षमता की पहचान ।
  • पासचूरिया पैनीट्रैन्स के एंडोस्पोर का सूत्रकृमि उपत्वचा पर चिपकने की विधि को समझना ।

f8

 

  • स्थलीय सियानोबैक्टीरियम से निमाटोटॉक्सिक मेटाबोलाइट्स, सिनोटोकॉकस निडुलन्स ने मैलैडोगाइन इनकोगनिटा, एम. ग्रामिनिकोला, हैटेरोडेरा एवेयाननी और हैटेरोडेरा कैजेनी में हैच निषेध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई; ध्रुवीय बिना ध्रुवीय की तुलना में अधिक शून्यक सिद्ध हुआ। एस. निडुलन्स के फुलर के पृथ्वी आधारित सूत्रीकरण के आवेदन में 0.5% w / v के परिणामस्वरूप रूट गैलन की अधिकतम कमी, अंडे के द्रव्यमान की संख्या और सूत्रकृमि गुणन दर शामिल है।
  • एक्टिनोमाइसेट, स्ट्रेप्टोमाइसेस पर्पोफ़ुसकस (MTCC 6473) और स्ट्रेप्टोमाइसेस.लैवेनड्युली (MTCC 706) में नेमाटोटॉक्सिक मेटाबोलाइट्स होते हैं, जो महत्वपूर्ण हैच रोधक का कारण है, अत: मैलैडोगाइन इनकोगनिटा संक्रमित टमाटर में जड़ गलन और प्रजनन कारक में महत्वपूर्ण कमी के साथ-साथ आक्रमण कम होता है।
  • मैलैडोगाइन इनकोगनिटा संक्रमित पासचूरिया का एक स्वदेशी आइसोलेटस अत्यधिक विशिष्ट पाया गया; भारत में प्रचलित मैलैडोगाइन की अन्य उपजातियों पर एंडोस्पोर लगाव बायोस्सेस ने इसकी होस्ट विशिष्टता का संकेत दिया। पासचूरिया को अन्य मिट्टी के जीवाणुओं जैसे बेसिलस सेरेस, बी. सबटिलिस और बी. प्यूमिलस के साथ के कारण एंडोस्पोर लगाव में गिरावट अकित की गई।
  • ट्राइकोडर्मा सपीसीस (ITCC) के स्वदेशी आइसोलेट्स की सूत्रकृमिनाशक क्षमता के लिए स्क्रीनिंग और मूल्यांकन प्रगति पर है।

कीटनाशक सूत्रकृमि

  • कीटनाशक सूत्रकृमि (ईपीएन) और उनके सहजीवी बैक्टीरिया, पर बैक्टीरियल टैक्सोनॉमी, जीनोमिक्स और ट्रांसक्रिपटॉमिक्स, सिम्बायोसिस, इकोनोमाइजेशन, मास कल्चरिंग, फॉर्मुलेशन और एप्लिकेशन टेक्नोलॉजी पर बुनियादी और अनुप्रयुक्त शोध कैरी हो रहा है।
  • यह प्रभाग भारत के विभिन्न हिस्सों में ईपीएन पर अनुसंधान करने वाली प्रयोगशालाओं को सहायता प्रदान करता है।
  • गर्मी-सहिष्णु ईपीएन उपजाति स्टेनिनरेमा थर्मोफिलम को व्यवसायीकरण के लिए मल्टीप्लेक्स बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड को लाइसेंस दिया गया ।
  • कीटनाशक सूत्रकृमि एस. थर्मोफिलम आधारित पूसा नेमजेल का एक जेल-आधारित सूत्रीकरण विकसित किया गया और यह संस्थान आंचलिक प्रौद्योगिकी प्रबंधन और व्यवसाय प्रक्रिया विकास इकाई के माध्यम से व्यवसायीकरण के लिए उपलब्ध है।
  • कीटनाशक सूत्रकृमि हैटरोरहइबडाइटिस इंडिका के लिए गैलेरिया कैडेवर आधारित अनुप्रयोग तकनीक डिवीजन द्वारा विकसित की गई है, को क्रमशः पश्चिमी यूपी और हिमाचल प्रदेश में गन्ने की फसल को हानी पुहचाने वाली सफेद सूड़ी (व्हाइट ग्रब) और सेब की जड़ खाने वाले बोरर्स के प्रबंधन के लिए अत्यधिक आशाजनक है।

f8

 

प्रौद्योगिकी व्यावसायीकरण और दायर किये गये पेटेन्टः

पेटेन्ट

अनुसंधान जनक

आवेदन संख्या

दिनांक

पौधों को हानि पुहचाने वाले सूत्रकृमियो के नियंत्रण के लिए एक विधि

उमा राव

PCT/IB2013/060946

12 जून, 2015

रोगजनकों के प्रतिक्रिया में पौधे की जड़ों में जीन की अभिव्यक्ति के निर्देश के लिए पॉली न्यूक्लियोटाइड फ्रगमेंट

पी. के. जैन, अतुलकरन, अनिल कुमार, अनिल सिरोही और श्रीनिवासन

2246/DEL/2015(सम्पूर्ण पेटेन्ट)

23 जुलाई, 2015

रोगज़नक़ों और क्षति की प्रतिक्रिया में पौधे की जड़ों में जीन की अभिव्यक्ति के निर्देशन के लिए पोलिन्यूक्लियोटाइड फ्रगमेंट

पी. के. जैन, अतुलकरन, अनिल कुमार, अनिल सिरोही और श्रीनिवासन

2245/DEL/2015(अनंतिम पेटेन्ट)

23 जुलाई, 2015