भा.कृ.अ.सं., क्षेत्रीय केन्द्र, पुणे (महाराष्ट्र)

डॉ. सुनील कुमार शर्मा
अध्यक्ष

फोन : - 020-25889968/9890170220
फैक्स : - 020-25889969
ई-मेल : head_pune[at]iari[dot]res[dot]in
पता : सर्वे संख्या 125-ऐ, आए.टी.आए. रोड, (बानेर फाटा), औंध, पुणे - 411007, महाराष्ट्र
        (125A, ITI Road (BanerPhata), Aundh, Pune-411067, Maharashtra)

           

 

तत्कालिक इम्पीरियल कृषि अनुसंधान परिषद्, दिल्ली ने 1938 में पौधों के विषाणु जन्य रोगों पर अनुसंधान करने हेतु एक योजना को स्वीकृती दी थी जो बाद में पुणे स्थित पादप विषाणु अनुसंधान प्रयोगशाला बनी. इस क्षेत्र के विषाणु जन्य रोगों पर अनुसंधान को समन्वयित करने हेतु यह योजना मुंबई राज्य शासन के तत्कालीन पादप रोग वैज्ञानिक डॉ. बी. एन. उप्पल के प्रशासनिक और तकनिकी मार्गदर्शन में 1 अप्रैल, 1939 में कृषि महाविद्यालय, पुणे में प्रारम्भ हुई. 1 अप्रैल, 1956 में इस योजना का तकनिकी और प्रशासनिक नियंत्रण भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली को सौंपा गया और इसका नाम, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, क्षेत्रीय केंद्र, पुणे रखा गया. इसकेंद्र की प्रयोगशाला तथा कार्यालय 16 फरवरी, 2014 को प्रायोगिक प्रक्षेत्र में नव-निर्मित ईमारत में स्थानातरित हो गए हैं.

 

यह केंद्र विभिन्न फल तथा सब्जियों की फसलों पर आने वाले विषाणु-जन्य तथा विषाणु जैसे रोगों की पहचान एवं उनके एकीकृत प्रबंधन पर अनुसंधान करने तथा इस से जुडी शिक्षा एवं प्रसार में व्यस्त है. यह केंद्र देश में केवल विषाणु रोगों पर अनुसंधान करनेवाला एकमेव स्थान है .स्टेशन पर पौधों पर आने वाले अनेक विषाणु रोगों का विशेषीकरण किया गया है तथा प्रबंधन की तकनीक विकसित की गयी है.