परियोजना का शीर्षक

समन्‍वयक/प्रधान अन्‍वेषक

स्‍थान/संभाग

अवधि

निधि दाता एजेन्‍सी

जीर्णन : अजैविक प्रतिबलों, सिंक शक्ति तथा उनकी अन्‍तरक्रिया के संदर्भ में यांत्रिकी

डॉ. श्रीमती रेणु खन्‍ना चोपड़ा

जल प्रौद्योगिकी केन्‍द्र

1995-2010

भा.कृ.अ.प.

खाद्य जिन्‍सों से नाशकजीवनाशी अपशिष्‍टों का विसंदूषण

डॉ. मधुबन गोपाल

कृषि रसायन

1999-2009

भा.कृ.अ.प.

ट्रैक्‍टर पर लगाए जाने योग्‍य 8 कतार वाले पूसा बीज एवं उर्वरक रोपाई यंत्र जिसमें तवादार कूण बनाने की युक्ति जुड़ी हो, के प्रोटोटाइप का विनिर्माण

डॉ. बी.के. दत्‍त

क्षेत्रीय केन्‍द्र, करनाल

2003-2013

भा.कृ.अ.प.

सस्‍यविज्ञानी दृष्टि से महत्‍वपूर्ण गुणों के लिए भारतीय मक्‍का की भू-प्रजातियों का आण्विक गुण निर्धारण

डॉ. बी.एम. प्रसन्‍ना

आनुवंशिकी

2005-2010

भा.कृ.अ.प.

राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मृदा/जल संरक्षण और कृषि के टिकाऊपन के लिए घटिया गुणवत्‍ता वाली सिंचाई जलों के प्रबंधन हेतु क्षेत्रीय पौधों का विकास

डॉ. श्रीमती रविन्‍द्र कौर

पर्यावरण विज्ञान

2005-2010

भा.कृ.अ.प.

बढ़ी हुई जैव-दक्षता और उसकी पहचान के लिए आण्विक मार्करों के विकास हेतु कवकीय पादप रोगजनकों के सशक्‍त एंटागोनिस्‍ट चिटोमियम ग्‍लोबोसम के प्रभेद का सुधार

डॉ. रश्मि अग्रवाल

पादप रोगविज्ञान

2005-2010

भा.कृ.अ.प.

संरक्षित कृषि में पर्यावरण मित्र खरपतवार प्रबंध : सेसबेनिया प्रजाति पर आधारित नवीन जैव शाकनाशी का विकास

डॉ. अनुपमा

कृषि रसायन

2008-2010

भा.कृ.अ.प.

फलों, सब्जियों और पुष्‍पों के लिए ताप पंप शुष्‍कक की डिजाइन व उसका विकास

डॉ. अभिजीत कर

कटाई उपरांत प्रौद्योगिकी

2007-2010

भा.कृ.अ.प.

नींबू वर्गीय फसलों में परासरणी प्रतिबलों के प्रबंधन हेतु माइकोराइज़ा को सहायता करने वाले जीवाणुओं से या उनके बिना माइकोराइज़ा कवक का उपयोग

डॉ. वी.बी. पटेल

फल एवं औद्यानिक प्रौद्योगिकी

2009-2012

भा.कृ.अ.प.